Tag: #greatnessguide

गुणस्थान मीमांसा : मुनि राजकरण (भाग-4)


ज्ञानावरणीय कर्म के उदय एवं क्षयोपशम से ज्ञान में तरतमता पैदा होती है और उसके कारण ज्ञान के अनेक भेद हो जाते हैं। मति, श्रुत, अवधि तथा मनः पर्यव ये इसके मुख्य भेद होते हैं तथा अवग्रह, ईहा आदि मति के, अंग प्रविष्ट, अंग बाह्य आदि श्रुत के, हीयमान वर्द्धमान आदि अवधि के, ऋजुमति, विपुलमति आदि मनः पर्यव के अवान्तर भेद प्रभेदों की संख्या काफी बड़ी हो जाती है।
to know more visit

Advertisements

What do we Teach our Children


Do you know what you are

U are a marvel

U are Unique

In all the years that have passed

there hase never been another child like U

Your legs, your arms, your clever fingers,

the way you move…….